आईपीएल के इन 5 झूठों को आज तक सच मानते आए हैं हम। जानिए इनकी सच्चाई

आईपीएल का आयोजन साल 2008 से होता आ रहा है। आईपीएल के चाहने वालों के लिए किसी बहार से कम नहीं होता।

जब आईपीएल शुरू होता है तो वह अपने साथ अपने चाहने वालों के लिए खुशियों का आसमान लेकर आता है।

लोग अपना-अपना काम छोड़कर आईपीएल को देखने में जुट जाते हैं। सभी दीवाने अपनी-अपनी टीम का समर्थन करते हैं।

आईपीएल अपना 14 संस्करण खत्म कर चुका है और इसके साथ ही उसने अपने इतिहास के अनेक कीर्तिमान स्थापित किए हैं।

यह छोटी मोटी सुर्खियां बटोर रहता है जिनमें कुछ तो बहुत अच्छी होती हैं जबकि कुछ कड़वी यादों के के साथ आज भी आईपीएल का हिस्सा हैं।

आईपीएल को लेकर आम जनमानस में तमाम तरह की भ्रांतियां हैं। जिन को साफ कर लेना बेहद आवश्यक है।

आज हम आपको आईपीएल की 5 ऐसी अफवाहों के बारे में बताएंगे जिनको आईपीएल को चाहने वाले सच मानते हैं। लेकिन सच्चाई यह है कि यह पूरी अफवाह के सिवा कुछ नहीं है।

IPL में मैच फिक्सिंग के कारण बैन हुई थीं CSK और RR

साल 2015 में आईपीएल में सीएसके और राजस्थान रॉयल को मैच फिक्सिंग के चलते बैन कर दिया था।

लेकिन सच्चाई नहीं है बल्कि असल में सच्चाई यह है कि इन दोनों टीमों के मुख्य अधिकारी गुरुनाथ मयप्पन और राज कुंद्रा को स्पॉट फिक्सिंग के कारण बर्खास्त कर दिया गया था।

इतना ही नहीं बीसीसीआई ने भी राजस्थान रॉयल्स और चेन्नई सुपर किंग्स पर 2 साल तक  खेलने का प्रतिबंध लगा दिया था।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मैच फिक्सिंग और स्पॉट फिक्सिंग दोनों अलग-अलग बातें हैं।

स्पॉट फिक्सिंग में मैच की कुछ विशेष गतिविधियां जैसे टॉस जीतकर बल्लेबाजी पहले करेंगे या बाद में।

इन चीजों को बता दिया जाता है लेकिन मैच फिक्सिंग में मैच के हार या जीत को पहले ही कर दिया जाता है।

मुम्बई इंडियंस के मैच में अंपायर खरीद लिए जाते हैं

मुंबई इंडियंस आईपीएल के 5 सीजन अपने नाम कर चुकी है। इसीलिए आईपीएल के दीवानों के दिमाग में एक चीज घर कर गई है कि

मुंबई इंडियंस के मैच में मुंबई इंडियंस की टीम सभी अंपायरों को खरीद कर अपने पक्ष में कर लेती है। यही कारण है कि मुंबई इंडियंस के मैच में अंपायर फैसले मुंबई के पक्ष में देते हैं।

परंतु यदि हम खिलाड़ियों पर बात करें तो मुम्बई अपने खिलाड़ियों पर विशेष ध्यान देती है 

उनकी फिटनेस का ख्याल रखती है। मुंबई अपने खिलाड़ियों पर जितना ध्यान देती है, उतना शायद कोई और नहीं देती।

अगर हम एंपायरों की गलतियों की बात करें तो वह भी इंसान हैं और वह गलती कर जाते हैं ।

साल 2019 में धोनी को गलत आउट दिया गया और 2017 के आईपीएल फाइनल में स्टीव स्मिथ को दी गई वाइड गेंद हो। अंम्पारों के इन फैसलों ने मैच का रुख बदल दिया था।

आईपीएल के सब मैच फिक्स होते हैं

कुछ लोग इस बात को बिल्कुल सत्य मानते हैं कि आईपीएल के सभी मैच पहले से ही फिक्स होते हैं। परंतु यह बात बिल्कुल झूठी है।

आप अगर आईपीएल को ध्यान से देखते हैं तो आप देखते होंगे कि खिलाड़ी मैदान पर कितनी मेहनत करते हैं। वे मैच जीतने के लिए पूरी जान लगा देते हैं।

अगर हम आईपीएल में फिक्सिंग बात करें तो बीसीसीआई ने टीमों के लिए बेहद कठिन नियम बना रखे हैं।

उनके लिए मॉनिटर भी रखे हैं। इसीलिए यदि आप आईपीएल को फिक्स कह रहे हैं आप बिल्कुल गलत कह रहे हैं।

डेक्कन चार्जर्स और सनराइजर्स हैदराबाद एक टीम है

कुछ लोगों का मानना है कि डेक्कन चार्जर्स और सनराइज हैदराबाद एक ही टीम है।

लेकिन आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हैदराबाद की ओर से डेक्कन चार्जर्स ने ही शुरुआत की थी और उसने आईपीएल में 5 सीजन ही खेले थे।

साल 2009 में आईपीएल का खिताब भी जीता था। लेकिन 2012 में पूरी तरह दिवालिया हो गई और आईपीएल से बाहर हो गई।

इसके बाहर होने के बाद सन टीवी नेटवर्क ने डेक्कन चार्जर्स में थोड़ी सी रुची दिखाई और 2013 में नए सिरे से सनराइज हैदराबाद के नाम से नई टीम बनाई।

हालांकि यह बात तो ठीक है कि सनराइजर्स हैदराबाद में डेक्कन चार्जर्स के ज्यादातर खिलाड़ी हैं

यही कारण है कि लोगों को लगता है कि डेक्कन चार्जर्स और सनराइज हैदराबाद एक ही टीम है। सनराइज हैदराबाद साल 2016 में आईपीएल की विजेता बन चुकी है।

क्रिस मोरिस हैं आईपीएल के सबसे मंहेगे खिलाड़ी

ज्यादातर लोगों को लगता है कि क्रिस मॉरिस आईपीएल के अब तक के सबसे महंगे खिलाड़ी हैं।

राजस्थान रॉयल्स ने इनको 16.25 करोड़ में खरीदा था। लेकिन आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह सब सच्चाई नहीं है।

सन 2018 के सीजन में विराट कोहली को आरसीबी ने 17 करोड़ का रिटेन किया था।

अब आप समझ ही गए होंगे कि आईपीएल सीजन का सबसे में खिलाड़ी कौन है।

सभी फ्रेंचाइजी अपने खिलाड़ियों को मोटी मोटी रकम देखकर हर साल रिटेन करती हैं।

लेकिन इनका खुलासा समय पर नहीं होता है। यही कारण है की हमें सच्चाई का पता नहीं लग पाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *