मोदी सरकार ने कबाड़ा बेचकर कमाए 40 करोड़। जानिए कैसे ?

देश में इस समय त्योहारों का मौसम चल रहा है। त्योहारों के इस मौसम में सभी लोग अपनी साफ सफाई में व्यस्त होंगे।

हम लोग अपने घरों में जो कबाड़ निकलता है या फिर जो रद्दी निकलती है उसे थोड़े बहुत दामों में बेच देते हैं।

लेकिन क्या आप इस बात का अंदाजा लगा सकते हैं कि किसी सफाई अभियान में करीब चालीस करोड़ का कबाड़ा निकला हो। जी हां भारत सरकार ने कबाड़ा बेचकर ₹ 40 करोड़ कमाए हैं।

यह सफाई अभियान केंद्र सरकार ने शुरू किया है। सफाई अभियान सभी केंद्रीय कार्यालयों में चला गया है।

इन सरकारी कार्यालयों में 13 लाख 73 हजार से ज्यादा फाइलें रद्दी के लिए निकाली गईं।

आपको यह जानकर बेहद हैरानी होगी कि बीते 1 महीने में भारत सरकार ने पुराने कबाड़ को हटाकर इतनी जगह खाली कर ली कि यहां पर 4 राष्ट्रपति भवन बनाए जा सकते हैं।

जो स्थान खाली कराए गए हैं कुल मिलाकर करीब 8 लाख वर्ग फिट बैठते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि राष्ट्रपति भवन की कुल परिधि 2 लाख वर्ग फीट है।

कबाड़ से कमाए 40 करोड़

सफाई अभियान की मदद से भारत सरकार का प्रयास रहा है कि जो मामले लंबित हैं उनको निपटाया जाए।

डॉ जितेंद्र सिंह जो कि कार्मिक राज्यमंत्री हैं, उन्होंने 2 अक्टूबर को लॉन्च सफाई अभियान की समीक्षा की जानकारी देते हुए 1 नवंबर को एक ट्वीट किया था।

जिसमें उन्होंने यह जानकारी दी कि भारत सरकार ने कबाड़ को बेचकर ₹ 40 करोड़ का मुनाफा कमाया है।

पीएम मोदी को सौंपी रिपोर्ट

कार्मिक मंत्री श्री जितेंद्र सिंह ने अपने ट्वीट में बताया कि 15 लाख फाइलों की पहचान की गई जिनमें से करीब 13 लाख 73 हजार फाइलों को कार्यालय से हटा दिया गया।

इनमें से करीब 3 लाख 28 हजार ऐसी फाइलें थीं, जो जन शिकायतों से संबंधित हैं और उनमें से 2 लाख 91 हजार फाइलों को पर 30 दिन के अंदर सरकार ने एक्शन लिया था।

इनमें से करीब 11057 चिट्ठियों में से 8282 चिट्ठियों को हटा दिया गया।

इतना ही नहीं 834 में से 685 नियमों और प्रक्रियाओं को जटिल से सरल करने का प्रयास किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *