जब तक नई और जानदार फिल्में रिलीज नहीं हो रही हैं तब तक इन सदाबहार फिल्मों को देखकर अपना मन खुश कीजिए।

कोरोनावायरस के चलते पूरे देश में सभी थिएटर लगभग बंद रहे। हालांकि सभी राज्यों की सरकारें दिवाली के आसपास खोलने की तैयारी कर रहे हैं। हालांकि देश के कुछ हिस्सों में सिनेमाघरों को खोला जा चुका है।

इसी बीच सिनेमाघरों में बहुत सारी फिल्में भी रिलीज हुई लेकिन बॉक्स ऑफिस पर भी बहुत ज्यादा अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाईं।

सिनेमा खुलने के बाद फिल्म निर्माताओं ने ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर फिल्म देना बंद कर दिया।

दूसरी तरफ बॉक्स ऑफिस पर जिस तरह से फिल्मों का हश्र हो रहा है। उसके कारण अच्छी फिल्में भी रिलीज नहीं हो पा रही हैं।

बहुत सारे फिल्म निर्माताओं ने फिलहाल फिल्मों को रिलीज ना करना ही ठीक समझा है। नई फिल्में तो जब आएंगे तब आएंगे

लेकिन इस समय कुछ सदाबहार फिल्में आपको ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर देखने को मिल जाएंगी।

यह वही फिल्में है जो आज भी दर्शकों के दिलों पर राज करती हैं।

सबसे अच्छी बात यह है कि इनको जितनी बार देख लो उतनी बार यह फिल्में नई ही लगती हैं।

इनको देखकर बोरियत का अनुभव नहीं होता। चलिए जानते हैं छह फिल्में कौन सी हैं।

चुपके-चुपके

साल 1975 में आई यह फिल्म उत्कृष्ट फैमिली ड्रामा कॉमेडी क्लासिक फिल्म है।

यह फिल्म ऐसी फिल्म है जिसे आप परिवार के साथ बैठकर देख सकते हैं।

इस फिल्म में फ्रेश एंड क्लीन कॉमेडी है। इस फिल्म को ऋषिकेश मुखर्जी ने निर्देशित किया है।

यह फिल्म दो दोस्तों की कहानी है। जो अर्जेंट क्लासेस को लेकर संघर्ष कर रहे हैं।

इस फिल्म में डायलॉग कलाकारी का बेतोल मेल देखने को मिलेगा। फिल्म के गाने ऐसे हैं जो आज भी आप बड़े मन से सुनते हैं।

इस फिल्म में धर्मेंद्र, अमिताभ बच्चन, जया बच्चन, शर्मिला टैगोर और असरानी ने अभिनय किया है।

शोले

शोले फिल्म आज तक अपने चाहने वालों को अपने से अलग नहीं होने दिया है।

इस फिल्म को वर्ल्ड क्लासिक फिल्म का दर्जा दिया जाता है। इस फिल्म में डकैतों की कहानी है।

इस फिल्म में दिखाया गया है कि दो उचक्के गांव वालों को खूंखार डाकू गब्बर सिंह की आतंक से निजात दिलाते हैं।

इस फिल्म में गाए गए सभी गाने आज भी लोगों की जुबान पर चढ़े हुए हैं।

इस फिल्म में संजीव कुमार, धर्मेंद्र, अमिताभ बच्चन, हेमा मालिनी, जया बच्चन, असरानी ,अमजद खान ने मुख्य भूमिका निभाई है।

गोलमाल

गोलमाल फिल्म 1979 में आई थी। यह फिल्म आईडेंटिटी क्राइसिस पर बनी है।

इस फिल्म को देखकर आप स्वयं यह महसूस करेंगे कि ऋषिकेश मुखर्जी ने इस फिल्म को कितने मन से बनाया है।

उत्पल दत्त और अमोल पालेकर ने इस फिल्म में से डायलॉग बोले हैं जिनको सुनकर आज भी दर्शक हंसी से लोटपोट हो जाते हैं। इनमें दीना पाठक देवदत्त ओमप्रकाश ने अहम किरदार निभाए हैं।

मिस्टर इंडिया

मिस्टर इंडिया के कुछ डायलॉग और किरदार आज ही हमारे जीवन का अहम हिस्सा हैं।

इस फिल्म में अरुण नाम के लड़के की कहानी है, जो आर्थिक संकट से परेशान हैं। इसके बावजूद अनाथ बच्चों का आश्रम अपने घर में चलाता है।

उसने अपना घर एक महिला पत्रकार को एक कमरा किराए पर दिया है। अरुण का घर माफियाओं के निशाने पर है।

एक बार उसके हाथ में उसके पिता की बनाई हुई घड़ी आती है। इस घड़ी को पहन कर अरुण गायब हो जाता है।

और इसके बाद इस फिल्म के मुख्य किरदार अरुण यानी अनिल कपूर का जीवन बदल जाता है।

फिल्म अनिल कपूर के अलावा श्रीदेवी, अमरीश पुरी, सतीश कौशिक ने जबरदसत अभिनय का परिचय दिया है।

मिस्टर इंडिया को शेखर कपूर ने निर्देशित किया है। भले ही यह फिल्म बहुत पुरानी है। लेकिन इस फिल्म के गाने आज भी ज्यों के त्यों बने हुए हैं।

दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे

बॉलीवुड की रोमांटिक फिल्मों की बात हो और वहां पर दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे फिल्म का जिक्र न हो, ऐसा हो नहीं सकता।

इस फिल्म में एक NRI लड़के और पंजाब की लड़की की प्रेम की कहानी है। फिल्म में काजोल के पिता अमरीश पुरी विलेन बन जाते हैं।

इस फिल्म में इन दोनों के बिछड़ने की कहानी है। इस फिल्म के गानों ने आज भी लोगों के दिलों में आज भी जगह बनाई हुई है।

इस फिल्म का निर्देशन आदित्य चोपड़ा ने किया है। और इस फिल्म का निर्माण यशराज बैनर तले हुआ है।

इस फिल्म में शाहरुख खान, काजोल ,अमरीश पुरी ,अनुपम खेर ने मुख्य भूमिका निभाई हैं। इस फिल्म के गाने आज भी हमारे दिलों पर राज करते हैं।

वैक अप सिड

 

वेक अप सीड साल 2009 में आई थी। रोमांस कॉमेडी और एक्शन देखने का शौक नहीं है तो आप इस फिल्म को देख सकते हैं।

यह कहानी है कि युवा लड़के की। इस लड़के के जीवन का कोई उद्देश्य नहीं है। उसके पिता के पास बहुत सारा पैसा है धन दौलत है।

हर पिता की तरह उस लड़के के पिता की यही चाहत होती है कि उसका बेटा उसके कारोबार में हाथ बंटाए।

लेकिन लड़का ऐसा नहीं करता है। पिता से ज्यादा विवाद हो जाता है तो वह अपनी से ज्यादा उम्र की महिला के साथ रहने लगता है।

इस फिल्म की कहानी एक अलग तरह की है। इस फिल्म में रणबीर कपूर, अनुपम खेर, सुप्रिया पाठक अहम भूमिकाओं में है।

इस फिल्म को करण जौहर प्रोडक्शन में बनाया गया है। इस फिल्म का निर्देशन अयान मुखर्जी ने किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *