तारक मेहता का उल्टा चश्मा के बारे में ये बातें नहीं जानते होंगे आप।

तारक मेहता का उल्टा चश्मा एक ऐसा टीवी शो है जो लंबे समय से भारतीय के दिलों में अपना खास स्थान बनाए हुए है।

यह शो 2008 में लांच हुआ था और इतना पुराना होने के बाद भी मुझे अपना क्रेज लगातार बनाए हुए हैं।

तारक मेहता का उल्टा चश्मा के सभी किरदार अपने अपने किरदार में बिल्कुल फिट नजर आते हैं।

लेकिन आज हम आपको तारक मेहता का उल्टा चश्मा की कुछ मजेदार के बारे में बताएंजे जिन्हें सुनकर आप कहेंगे अरे वाह ! ये तो हमें मालूम ही नहीं था। चलिए शुरू करते हैं।

पत्रकार पोपटलाल हैं तीन बच्चों के पिता

इस शो में पत्रकार पोपटलाल की भूमिका अभिनेता श्याम पाठक निभा रहे हैं। पत्रकार पोपटलाल शादी के लिए लालायित हैं।

लेकिन उनकी शादी तमाम कोशिशों के बाद भी नहीं हो पा रही है।

लेकिन उनकी असल जिंदगी की बात करें तो पत्रकार पोपटलाल शादीशुदा है और वे तीन बच्चों के पिता भी हैं। श्याम पाठक की पत्नी का नाम रेशमी है।

और इन दोनों ने प्रेम विवाह किया। इन दोनों की पहली मुलाकात नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में हुई थी और उन्होंने साल 2003 में शादी की।

जेठालाल से छोटे हैं बाबू जी

तारक मेहता का उल्टा चश्मा में जेठालाल के बापूजी का किरदार निभाने वाले अमित भट्ट असल जिंदगी में जेठालाल से छोटे हैं।

इन दोनों के बीच 6 साल का अंतर है।

अमित भट्ट का जन्म सन 1974 में हुआ था जबकि जेठालाल का किरदार निभाने वाले दिलीप जोशी का जन्म 1968 में हुआ था।

इंजीनियर हैं भिड़े

तारक मेहता का उल्टा चश्मा में मास्टर भिड़े का किरदार निभाने वाले 45 वर्षीय मंदार चंदवाडकर असद जिंदगी में मैकेनिकल इंजीनियर हैं।

इससे पहले मंदार दुबई में एक कंपनी में करीब 3 साल तक इंजीनियर के तौर पर अपनी सेवाएं दे चुके हैं।

दिलों पर छा गये बाघा

 

तारक मेहता का उल्टा चश्मा में जेठालाल के ऑफिस में दो लोग काम करते हैं। एक तो नट्टू काका थे जिनका हाल ही में निधन हुआ था और दूसरे हैं बाघा।

इस शो में बाघा की किरदार तन्मय वेकारिया ने निभाया है। शो की शुरुआत में बाघा को यहां लाने की कोई विषय योजना नहीं थी।

बाघा को इस शो मैं कभी रिक्शा चालक, कभी टैक्सी ड्राइवर की भूमिका निभाते हुए देखा जाता था। लेकिन जब कभी नट्टू काका छुट्टी पर चले जाते थे।

तो बागा को जेठालाल की दुकान संभालने के लिए लाया गया था। लेकिन बाद में बाघा के किरदार को जनता ने खूब पसंद किया।

फिर देखते ही देखते भी इस शो के मुख्य कलाकारों में से एक शामिल हो गए।

दया और सुंदर सगे भाई-बहन हैं

इस शो में सुंदरलाल जोकि दया के भाई और जेठालाल के साले की भूमिका निभाते हैं। सुंदरलाल और दया असल जिंदगी में भी भाई बहन ही हैं।

इस शो में सुंदरलाल की भूमिका मयूर वकानी निभा रहे हैं। साल 2017 से दिशा वकानी इस शो में नजर नहीं आ रही हैं।

और इस शो के निर्माताओं ने अभी तक उनकी जगह किसी अन्य कलाकार को भी नहीं लिया है।

इससे यह संशय बरकरार है कि दिशा वकानी इस शो वापसी करेंगी या नहीं।

टप्पू और गोगी

इस शो में टप्पू की भूमिका भव्य गांधी ने निभाई है। और समय शाह गोगी की भूमिका में नजर आते हैं।

इन दोनों के अगर असल जिंदगी के रिश्ते की बात की जाए तो यह दोनों वास्तविक जीवन में सगे ममेरे भाई हैं।

लेकिन पिछले कुछ समय से इस शो में भव्य गांधी की जगह राज अनादकट टप्पू की भूमिका निभाते हैं।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भव्य गांधी टीवी सीरियल इंडस्ट्री के बाल कलाकारों में से एक हैं जो सर्वाधिक पेमेंट लेते हैं।

बताया जाता है कि वह जब इसको में का हिस्सा थे तब हर एपिसोड का ₹ 10000 लेते थे।

अय्यर की शो में एंट्री

तारक मेहता का उल्टा चश्मा शो में तनुज महाशब्दे कृष्णन सुब्रमण्यम अय्यर की का किरदार निभाते हुए नजर आते हैं।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि शुरुआत में तनुज इस शो लेखकों में शामिल थे।

लेकिन जेठालाल के किरदार निभाने वाले दिलीप जोशी को इस शो में बंगाली तमिल कपल को शामिल करने का आईडिया दिमाग में आया।

और उसके बाद अय्यर ने जो खुद धमाल मचाया है वह तो आपके सामने है ही।

दिलीप जोशी बनने वाले थे बापू जी

इस शो की शुरुआत में दिलीप जोशी को जेठालाल के बाबूजी का किरदार निभाने के लिए चुना गया था।

लेकिन दिलीप जोशी ने इस किरदार को निभाने से इंकार कर दिया।

फिर बाद में शो के निर्माताओं ने दिलीप जोशी को जेठालाल की भूमिका निभाने के लिए मनाया। और उन्होंने इस किरदार को अजर अमर कर दिया।

गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड में बनाया स्थान

तारक मेहता का उल्टा चश्मा शो ने साल 2020 में 3000 एपिसोड पूरे कर लिए। और ऐसा करने वाला वह इकलौता टीवी सीरियल है। इसीलिए उसने गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड में अपना स्थान बनाया है।

50 रुपये कमाते थे जेठालाल

इस शो में जेठालाल की भूमिका निभाने वाले दिलीप जोशी ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया कि मैं शुरुआत में थिएटर में एक बैक स्टेज कलाकार के तौर पर काम करता था।

इसीलिए मुझे शुरुआत में कोई और रोल देने के लिए तैयार नहीं था।

मुझे एक किरदार निभाने के ₹  50 दिए जाते थे। लेकिन मुझे इस बात की ज्यादा भी परवाह नहीं की

। मैं अपने काम पर लगातार ध्यान देता रहा और आज मैंने क्या हासिल किया है सब जानते।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *