बरेली के उलेमा बोले, “अगर धर्म की शिक्षा दिलाई होती तो यह हाल ना होता आर्यन खान का”

शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को पिछले दिनों मुंबई पुलिस ने ड्र@स के मामले में गिरफ्तार कर लिया था।

उनकी इस गिरफ्तारी के बाद शाहरुख खान और उनके बेटे सुर्खियों में हैं।

इसी बीच बरेली के एक उलेमा ने इस केस को लेकर एक बड़ा बयान जारी किया है। उन्होंने शाहरुख खान को नसीहत दी है।

उन्होंने कहा है कि अगर शाहरुख खान ने अपने बेटे को मदरसे में शिक्षा दिलाई होती तो आज उनको इस तरह से जलील नहीं होना पड़ता।

मुंबई में शाहरुख खान के बेटे पर ही कार्रवाई के बाद तक माफियाओं में खौफ का माहौल है।

खासकर बॉलीवुड की उन प्रसिद्ध हस्तियों के इस मामले में फंसने के बाद यह मामला और भी गंभीर होता जा रहा है।

जहां पर प्रसिद्ध सुपरस्टार शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान पर मुंबई पुलिस ने शिकंजा कस दिया है।

दूसरी तरफ बरेली के उलेमा ने शाहरुख खान को यह नसीहत दी है की उनके बेटे को यदि मदरसे में शिक्षा दिलाई होती तो उनके आज ऐसे हालात नहीं होते।

शाहरुख खान को यह नसीहत देने वाले उलेमा हैं उलेमा ए इस्लाम के राष्ट्रीय महासचिव मौलाना शहाबुद्दीन रजवी।

उनका कहना है कि सिर्फ दुनियादारी की शिक्षा दिलाने से सब कुछ हासिल नहीं होता धर्म की शिक्षा भी अनिवार्य है।

जरूरी है मां-बाप को धर्म की शिक्षा का ज्ञान होना

बरेली के मौलाना का कहना है कि यदि शाहरुख खान ने अपने बेटे को मदरसे में शिक्षा दिलाई होती तो उन्हें अच्छे और बुरे का बेहतर ज्ञान होता। उन्हें जायज और नाजायज दोनों चीजों की गहरी परख होती।

उनका कहना है कि भले ही दुनियादारी की शिक्षा अपने बच्चों को दिलाएं लेकिन इसके साथ साथ इस्लामी तालीम भी हर मां-बाप को दिलाना चाहिए।

मौलाना शहाबुद्दीन का कहना है कि इस्लाम में नशा करना हराम है।

उन्होंने यहां तक कहा है कि यदि किसी का बच्चा गलत संगत में पड़ गया है तो उसे प्यार दुलार से सही रास्ते पर लाने का प्रयास किया जाए।

इसीलिए हर मां-बाप को धर्म की शिक्षा का ज्ञान होना अनिवार्य है।

आर्यन की जमानत पर हर किसी की नजर

शाहरुख खान और उनकी टीम की तमाम प्रयासों के बावजूद उनके बेटे आर्यन खान को कोर्ट से जमानत नहीं मिल सकी है।

हाल ही में कोर्ट ने उनकी जमानत को नामंजूर कर दिया था।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मुंबई पुलिस ने आर्यन को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *