जानिए फिल्म समीक्षकों को कंगना की थलाइवी में एक्टिंग कैसी लगी ?

तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री सुश्री जयललिता के जीवन पर आधारित एक फिल्म आई है धलाइवी। इस फिल्म ने जयललिता के सकारात्मक जीवन पर काफी प्रकाश डाला है।

अपने वास्तविक जीवन में जयललिता काफी तुनकमिजाजी महिला थीं। और ऐसा ही उनको इस फिल्म में दिखाया गया है।

जयललिता के जीवन पर आधारित यह फिल्म रिलीज तो हो गई है लेकिन कोरोनावायरस के कारण सिनेमाघरों में रिलीज नहीं हो पाएगी। महाराष्ट्र में तो सिनेमा का पूरी तरह बंद है।

इसीलिए इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि थलाइवी का कारोबार कम हो सकता है।

व्यापार तो जैसा भी हो लेकिन हम बात करेंगे थलाइवी के बारे में। इस फिल्म में कंगना रनौत ने जयललिता की भूमिका निभाई है।

कंगना रनौत 4 बार राष्ट्रीय पुरस्कार जीत चुकी है। और इस फिल्म में वे एक अभिनेत्री के तौर पर खरी उतरती दिख रही है।

यह बात तो ठीक है कि इस फिल्म को जयललिता के जीवन पर आधारित बताया गया है।

लेकिन उनके जीवन के कुछ नकारात्मक पहलू जैसे उन पर लगे भ्रष्टाचार के आरोप को छिपा दिया गया। इस फिल्म में जयललिता के संघर्ष के दिनों को प्रमुखता से दिखाया गया है।

जयललिता ने जिस तरह से जमीन से उठकर तमिलनाडु के मुख्यमंत्री तक का सफर तय किया था।

इस फिल्म में उसी का वर्णन किया गया है। इस फिल्म को लेकर जितनी भी समीक्षाएं आईं हैं। उन सब का मूल्यांकन एक जैसा ही है।

इनके मूल्यांकन में जयललिता का किरदार निभाने वाली कंगना रनौत की प्रशंसा की गई है।

बॉलीवुड हंगामा ने थलाइवी फिल्म में किए गए कंगना रनौत के अभिनय की काफी प्रशंसा की है।

बॉलीवुड हंगामा अपने समीक्षा में कहा है कि कंगना रनौत के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार मिलना चाहिए।

हंगामा आगे लिखता है कि थलाइवी की कहानी एक छोटी सी हीरोइन से लेकर राजनीतिक शक्ति बनने तक की कहानी है।

इस कहानी में एक बेहद दबे कुचले वर्ग से आने वाली कंगना तंग हाल मे फिल्मों में काम करने आती हैं।

इस फिल्म में कंगना ने जयललिता के जीवन को बखूबी जीने का प्रयास किया है।

इस फिल्म में उन्होंने कंगना के जितने भी किरदार निभाए हैं उन सब में भी फिट बैठती नजर आ रही है।

एक अन्य फिल्म समीक्षा में कहा गया है कि उन्होंने अवॉर्ड विनिंग परफॉर्मेंस दी है। तरण आदर्श जोकि एक जाने-माने फिल्म क्रिटिक हैं।

उन्होंने थलाइवी को हिंदी की बेस्ट बायोपिक बताया है। इस फिल्म में उन्होंने कंगना रनौत और अरविंद स्वामी की जोड़ी को काफी प्रशंसा की है।

इस फिल्म में अरविंद ने एमजीआर की भूमिका निभाई है। थलाइवी को लेकर टाइम्स ऑफ इंडिया ने भी अपनी समीक्षा पेश की है।

इस समीक्षा में टाइम्स ऑफ इंडिया लिखता है कि जयललिता के किरदार को काकी प्रभावशाली तरीके से प्रस्तुत किया गया है।

थलाइवी में जयललिता के चरित्र को बहुत अच्छे से निभाया गया है।

इस फिल्म में जयललिता को एक प्यार करने वाली महिला और समाज द्वारा तिरस्कृत महिला दोनों का किरदार बहुत अच्छे से निभाया है।

एक अन्य समीक्षा लिखती हैं कि हो सकता है आप कंगना रनौत को वैचारिक रूप से पसंद ना करें,

लेकिन उन्होंने जिस तरह से थलाइवी में अभिनय किया है आपको उनकी तारीफ करनी ही होगी।

कुल मिलाकर बॉलीवुड फिल्मों के लिए जितनी भी समीक्षाएं आती हैं उन सभी में कंगना रनौत की तारीफ की गई है।

सोशल मीडिया पर भी कंगना रनौत को लेकर सकारात्मक विचार देखे जा सकते हैं।

जहां आपकी तारीफ होती है आपके आलोचक भी वहां पहुंच ही जाते हैं।

कंगना रनौत की थलाईवी को एनडीटीवी ने मात्र कंगना रनौत का शो कह कर बात खत्म कर दी है।

हालांकि कंगना रनौत की एक्टिंग एनडीटीवी ने भी अच्छी बताई है। लेकिन उन्होंने इसे को प्रोपेगेंडा कहकर संबोधित किया है।

कुल मिलाकर कंगना रनौत की थलाइवी को सकारात्मक वातावरण मिलता दिख रहा है।

अब कंगना रनौत की फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कैसा प्रदर्शन करती है यह तो वक्त ही बताएगा।

इस फिल्म को हिंदी के साथ-साथ तमिल और तेलुगू में भी रिलीज किया गया है। इस फिल्म का निर्देशन एल विजय ने किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *