इन चीजों के इस्तेमाल से अपने दिमाग को बनाएं तंदुरुस्त

हर मां बाप का सपना होता है कि उनके बच्चे का दिमाग तेज हों। चाहे पढ़ाई हो या फिर खेलकूद हो वे सभी कामों में आगे रहें।

परंतु वर्तमान समय में इतनी पौष्टिक आहार में मिलावट होने लगी है कि वह पूरी तरीके से संतुलित अहार नहीं ले पाते हैं,

आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि किस तरह से और कौन सी चीजों का सेवन अधिक करें या अपने बच्चों को दें ,तो उनका दिमाग भी कंप्यूटर की तरह तेज हो सकता है। आइए जानते हैं इसके बारे में।

ओमेगा 3 का सेवन दिमाग के लिए है फायदेमंद

ओमेगा 3 फैटी एसिड के लिए बहुत आवश्यक माना जाता है। दिमाग के अच्छे विकास के लिए और दिमाग तेज करने के लिए फैटी एसिट की आवश्यकता होती है।

फैटी एसिट, न्यूरोडीजेनेरेटिव रोग, जो मस्तिष्क में उत्पन्न होते हैं। उसको कम करने के लिए या ऐसे रोगों से बचाने मे यह फायदेमंद होता है।

अधिक प्रोटीन वाले चीजों को मस्तिष्क के लिए अधिक उपयोगी माना जाता है। जैसे कि वसायुक्त मछलियाँ फैटी एसिट का अच्छा स्रोत है।

इसके साथ ही आहार में दालें शामिल करें या सूखे मेवेें और अंडा। यह वसा और प्रोटीन का अच्छे स्रोत माने जाते हैं।

अखरोट खाएं दिमाग बढ़ाएं

कई वैज्ञानिकों का यह मानना है कि अखरोट और मूंगफली का सेवन करने से दिमाग स्वस्थ रहता है।

ये दिमाग के लिए पोष्टिक आहार होते हैं। कुछ समय इसका लगातार सेवन करने से आपको इसके फायदे स्वयं देखेंगे।

आपको यह लगता है कि आपको भी भूलने की बीमारी है और स्वस्थ और अच्छा महसूस नहीं करते हैं।

दिमाग में थकान महसूस होती है तो अखरोट इसका अच्छा साधन है।

इसके सेवन से मस्तिष्क स्वच्छता और दिमाग याददाश्त तेज करने में यह फायदेमंद है।

डार्क चॉकलेट मस्तिष्क के लिए फायदेमंद

साल 2013 में और इससे पहले भी लगातार किए जा रहे हैं अध्ययन से एक बात यह सामने आई है कि डार्क चॉकलेट खाना दिमाग के लिए, रक्त प्रवाह के लिए और याददाश्त को तेज रखने के लिए फायदेमंद है।

डार्क चॉकलेट में फ्लेवोनोइडस नाम का एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है। यह एंटीऑक्सीडेटिव मस्तिष्ट के लिए बहुत फायदेमंद है इसलिए इसका सेवन करने का वैज्ञानिक सलाह देते हैं।

स्वस्थ मस्तिष्क में स्वस्थ शरीर का विकास होता है। और इसी तरह आप चॉकलेट,अखरोट और प्रोटीन युक्त आहार का सेवन करने से आप अपने दिमाग को कंप्यूटर से की तरह तेज बना सकते हैं। ये सारे दावे वैज्ञानिकों ने काफी रिसर्च के बाद किए हैं।

परंतु अगर आपको फायदा नहीं होता और अगर आपके मस्तिष्क का सही विकास नहीं हो पा रहा है या आपको भूलने की बीमारी है या दिमागी तौर पर थकावट महसूस करते हैं या

अधिक नींद आती है तो आप डॉक्टर की सलाह जरूर लें। उसकी सलाह पर इसका सेवन करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *