45 साल की उम्र में भी रखे महिलाएं अपने आपको को एक्सरसाइज करके फिट!

45 साल की उम्र में भी रखे महिलाएं अपने आपको को एक्सरसाइज करके फिट!

यदि आप की उम्र भी 40 से 45 साल के ऊपर की हो गई है और अब आप अपने शरीर में थकावट सुस्ती और दिमाग में बेचैनी तनाऊ महसूस करती हैं

तो यह एक्सरसाइज करके फायदे प्राप्त कर सकती है। इसको करके आप अपने शरीर को फिट सक्रिय बना सकती हैं।

टीवी सेलिब्रिटी और फिटनेस ट्रेनर डॉ कविता नालवा ने बताया 40 से 45 साल की महिलाओं के लिए यह 4 एक्सरसाइज बताई है यदि महिलाएं अपने डेली रूटीन में शामिल करती है तो

यह उनके लिए लाभदायक होगा और यह एक्सरसाइज इतनी ही सरल है कि कोई भी महिला अन्य रोगों से ग्रस्त है या बीमार है तो यह साइज करके वहां उससे लाभ प्रदान प्राप्त कर सकती हैं।

आइए जाने कैसे की जा सकती है यह एक्सरसाइज और इससे क्या और कैसे लाभ प्राप्त हो सकते हैं !

सिंपल बेसिक स्ट्रैचिंग

स्ट्रक्चर तो हर एक व्यक्ति को करना ही चाहिए, परंतु बढ़ती उम्र के साथ या बहुत जरूरत भी हो जाता है जो महिलाएं 40-45 के ऊपर की हो गई है।

उनके लिए यह करना इसलिए भी जरूरी है क्योंकि उनका शरीर एक तरह से निढाल होने लगता है जिसके लिए वह अपने काम में सुस्ती और तनाव महसूस करती है।

इसको करने से वह अपने शरीर में हर तरह से एक लचीलापन देखती है

जिसको करने से काम करने के लिए वहां तैयार भी रहती है,अपने दोनों हाथों को ऊपर उठाकर और अपनी बॉडी को स्ट्रेंज करें।

यदि आप बॉडी स्टैचं करना चाहती हैं तो सीधे खड़े होकर अपने दोनों हाथों को ऊपर की तरफ उठाकर,बॉडी को एकदम चेंज करिए ।

अगर आपके घुटनों में दर्द है तो आप नीचे झुकने वाला स्टेप ना ही करें तो ज्यादा तो बेहतर रहेगा।

आप कमर की एक्सरसाइज करना चाहते हैं तो कमर को भी हल्के तरीके से स्ट्रेंज कर सकती है,

परंतु यह ध्यान रखें कि आपको ज्यादा तेजी से स्टेप नहीं करनी है इसको धीरे-धीरे और सिंपल तरीके से ही करें।

सिंपल वॉर्मअप

बढ़ती उम्र के साथ शारीरिक क्षमता में भी कमी आने लगती है। इंसान थकावट और सुस्ती महसूस करता है,अगर इससे दूर रहना चाहते हैं और आपकी उम्र भी 40 के ऊपर है तो आप यह एक्सरसाइज का पूरा लाभ उठा सकती है।

सिंपल वार्मअप यह सबसे आसान तरीका है, एक्सरसाइज करने का इसको करने के लिये आप एक तरह से सीधे खड़ी हो जाए और

अपने हाथ को दाएं बाएं घुमाइए और थोड़ा बहुत कमर का भी मूवमेंट करते रहिए।इसको लगातार 10 मिनट तक करें। अगर आप की शुरुआत है तो 5 मिनट भी कर सकते हैं।

लाइट वार्मअप करने से शरीर बहुत चुस्त रहता है और यह सब के लिए ही फायदेमंद होता है,शरीर को मुख्य रूप से सक्रिय बनाता है

लाइट वर्माअप मे एक्सरसाइज को हमें अपने हाथों को ऊपर नीचे दाएं-बाएं घुमाए हल्के तरीके से करे यह उसी प्रकार से करें जैसे हम लोग स्कूल के समय में पीटी किया करते थे।

स्पॉट स्टेपिंग या स्पॉट जॉगिंग

महिलाओं की बढ़ती उम्र के साथ काफी शारीरिक दिक्कत आना शुरू हो जाती हैं और

जिसके समाधान के लिए वहां हर डॉक्टर के पास भी जाए तो भी है। वह पूरी तरीके से अपनी उम्र को अपने शरीर को चुस्त नहीं रख पाती हैं

इसी के समाधान मे आप घर पर ही रह कर छोटी मोटी एक्सरसाइज करने से वह कमी को दूर कर सकती और अपने शरीर को और सक्रिय बनाए रख सकती हैं।

जैसे कि डॉ कविता का कहना है कि मैं 40 साल से ऊपर की महिलाएं का कॉडियो कर सकती हैं।यह एक बहुत ही सरल और सिंपल एक्सरसाइज से है

जिसमें आप एक तरफ सीधे खड़े होकर अपने पैरों को ऊपर नीचे की तरफ स्पॉट कर सकती हैं। इससे स्पॉट जॉगिंग कहा जाता है।

इसको करने में आपको एक पैर ऊपर उठाकर, फिर उसके बाद दे वह पहले नीचे रखकर दूसरा पैर उठाना है। इस तरह से आपको यहां एक्सरसाइज करनी होती है कॉडियो इसलिए कहा जाता है

क्योंकि इसमें पैरों के साथ-साथ हाथ और कमर की भी पूरी बॉडी की मूवमेंट होती रहती है।

यह एक्सरसाइज करते समय आपको ऐसा लगेगा कि आप कोई अन्य कार्य कर रही है,

परंतु इसमें एक ही तरह से खड़े रहना है और यहां एक्साइज करने से ब्लड सरकुलेशन होता है जो की आपके शरीर के लिए जरूरी है।

लाइट मैट एक्सरसाइज-

लाइट मैट एक्सरसाइज में कठिन और सरल दोनों ही प्रकार की एक्सरसाइज शामिल है। यदि अगर आपकी उम्र 40 से 45 साल के ऊपर ही है तो

आप कठिन एक्सरसाइज नही करे तो बेहतर होगा वे ऐसे एक्सरसाइज करने से तो बच,परंतु सरल एक्सरसाइज करके आप अपने शरीर को संक्रिया और चरस बना सकती हैं।

यहां एक्सरसाइज में अधिक कुछ नहीं करना होता है। यहां एक सिंपल और आसान तरीके से ही की जाती है जिससे आपके शरीर मे इसे करने के बाद लचीलापन महसूस हो।

इसको करने के लिए आपको एक मैट पर बैठना है और अपने पैरों को बिल्कुल सीधा रखना है तथा

दाएं पैर से बाएं पैर की उंगली और बाएं पैर से दाएं पैर की उंगलियों को छूने की कोशिश करना है।

इसको करने के लिए आपको यहां बिल्कुल ध्यान में रखना होगा कि कमर पर ज्यादा जोर ना पड़े हैं

क्योंकि इससे कमर में मोच भी आ सकती है तथा यह करने का उद्देश्य पैरों की उंगलियों को मूवमेंट करवाना है ।

यह मिलेंगे फायदे-

यहां एक्सरसाइज करने से ना कि सिर्फ आपके हाथ पैर बल्कि शरीर के सारे ही अंग सकिय और स्वस्थ रहते हैं।

हर तरह की एक्सरसाइज से हर अंग को कोई न कोई लाभ प्राप्त होता है।

स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज करने से फेफड़ों को लाभ प्राप्त होता है

अगर यह एक्सरसाइज आप अपने रूटीन में करने लग जाते हैं तो आपको गर्दन और पैरों की घुटनों के दर्द की समस्या दूर होती है,

उसके लिये यह लाभदायक है।

40 से 45 साल की महिलाओं को यह एक्साइज करने से उनके शरीर का ब्लड सरकुलेशंस बेहतर होता है।

यदि अगर उनके घुटनों में दर्द है तो उसमें भी यह लाभदायक है। परंतु शर्त यह है कि कोई भी कठिन एक्सरसाइज ना करें।

एक्सरसाइज करने से ना कि सिर्फ आपके शरीर को लाभ प्राप्त होता है बल्कि मानसिक स्थिति में भी सुधार आता है।

यह कहा भी जाता है कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का विकास होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *