रूसी एथलीट का दावा- शारीरिक संबंध स्थापित करके जीता ओलंपिक में गोल्ड मेडल

जब कोई अपने जीवन में सफलता प्राप्त करता है तब लोग उससे उसकी सफलता का मूल मंत्र पूछते हैं।

तब वह सफल व्यक्ति अपने मूल मंत्र के बारे में सबको बताता है जो लोग उसी क्षेत्र में सफल होना चाहते हैं।

वे लोग सफल व्यक्ति के मूल मंत्र को फॉलो भी करते हैं।

आज हम एक ऐसी अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी की बात करेंगे जिन्होंने तैराकी में गोल्ड मेडल जीता है और जब उनसे उनकी सफलता का राज पूछा गया तब उन्होंने अपनी बात से सबको चौंका दिया।

एला शिशकिना रूस की खिलाड़ी हैं। आज उन्हें दुनिया के टॉप एथलीट्स में से एक मान जाता है।

जब उनसे उनकी फिटनेस का राज पूछा गया तब ऐला बोलीं कि शारीरिक संबंध स्थापित करने को मैं फिजिकल एक्सरसाइज मानती हूं।

वह कहती हैं कि अपना परफॉर्मेंस मैदान पर देने से पहले एक बार शारीरिक संबंध स्थापित करने को मैं अपनी प्राथमिकताओं में शामिल रखती हूं।

एला के बारे में बता बात करें तो एला ने टोक्यो ओलंपिक 2020 में गोल्ड मेडल जीता था। एला सिन्क्रानाइज्ड स्वीमिंग का हिस्सा रही थीं।

इतना ही नहीं एला ने रियो ओलंपिक 2016 में तथा लंदन ओलंपिक 2012 में भी गोल्ड मेडल अपने नाम किया था। अपने दिल की बात एला ने न्यूज आउटलेट स्पोर्ट्स एक्सप्रेस से कही थी।

जब एला से पूंछा गया था कि आप ऑन फील्ड परफॉर्मेंस सुधारने के लिए ऑफ फील्ड क्या करते हैं ?

एला ने आगे बताया कि मुझे विज्ञान शोध और डॉक्टर पर पूरा विश्वास है। यही कारण है कि मैंने अपने फैमिली डॉक्टर डेनिस से इस संबंध में खुलकर बात की थी।

एला कहती हैं कि वैज्ञानिक शोध भी इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि यदि आपको प्रोफेशनल खेलों में अपनी पूरी ताकत लगानी है तो शारीरिक संबंध स्थापित करना काफी सहायक सिद्ध हो सकते हैं।

एला ने इसको प्राथमिकता ही नहीं दी है बल्कि यह भी कहा है कि यदि आपका मैदान पर परफॉर्मेंस बहुत ज्यादा अच्छा नहीं है और आप काफी उतार-चढ़ाव के दौर से गुजर रहे हैं

तब मैं आपको यह सब करने की सलाह नहीं दे सकती। जहां तक मेरा मानना है कि हर इंसान को अपने शरीर के हिसाब से सब फैसले लेने चाहिए।

यदि आप यह सब कर पाने में सक्षम है तब आप डॉक्टर की सलाह से ये सब कर सकते हैं अन्यथा आपको दूरी बनाए रखना जरूरी है।

एला मास्को की खिलाड़ी हैं और भी इससे पहले भी फिटनेस को लेकर अपनी बेबाक राय रख चुकी हैं।

एला कहती हैं कि आप संबंध स्थापित करते समय विदाउट ओरगेंस्म के चलते यदि आप ऐसा करते हैं तो आपकी मस्ल्स स्ट्रेंथ में काफी वृद्धि होती है।

इस सबके अलावा टेस्टोस्टेरॉन भी किसी भी खिलाड़ी के इसको एग्रीगेशन के लिए काफी सहायक होते हैं।

एला दुनिया की पहली खिलाड़ी नहीं है जिन्होंने शारीरिक संबंधों को लेकर अपनी बेबाक राय रखी है।

इससे पहले भारतीय क्रिकेट टीम के मेंटल हेल्थ को पैट्रिक एगनी अप्टन ने भी शारीरिक तारीख संबंधों को लेकर एक किताब लिखी थी। जिसके कारण उनकी किताब बहुत जल्दी चर्चाओं में आ गई थी।

पैट्रिक 2008 से लेकर 2011 तक भारतीय क्रिकेट टीम का हिस्सा रहे थे और जब भारतीय टीम ने 2011 में क्रिकेट वर्ल्ड कप जीता था उस समय पर भारतीय क्रिकेट टीम का हिस्सा थे।

इसी विश्वकप के बाद उन्होंने भारतीय क्रिकेट टीम के साथ करार खत्म कर लिया और अपने को आगे नहीं बढ़ाया।

पैट्रिक ने जो किताब लिखी थी उस किताब में लिखा था कि यदि कोई खिलाड़ी मैच में अच्छा परफॉर्म करना चाहता है तो उसे मैच से पहले शारीरिक संबंध स्थापित करना चाहिए।

इतना ही नहीं उन्होंने साल 2009 में भी चैंपियंस ट्रॉफी से पहले उन्होंने कुछ पॉइंट्स तैयार किए थे।

जिनमें उन्होंने लिखा था कि परफॉर्म सुधारने के लिए ऑन स्क्रीन और ऑफ स्क्रीन दोनों ही चीजों पर ध्यान देना चाहिए।

यह बात ठीक है कि पेट्रिक के किताब से काफी विवाद उत्पन्न हो गया था।

भारतीय क्रिकेट टीम के तत्कालीन कोच गैरी क्रिस्टन भी पैट्रिक से नाराज हो गए थे हालांकि गैरी से पैट्रिक ने अपने इस किताब को लेकर माफी भी मांगी थी।

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में जब गैरी क्रिस्टन से इस संबंध में सवाल पूछे गए थे तो उन्होंने इस किताब को लेकर अपना पल्ला झाड़ लिया था।

जब पैट्रिक से इस संबंध में सवाल किए गए थे तो उन्होंने सफाई देते हुए कहा था कि यह मेरी अपनी राय है लेकिन मैं किसी खिलाड़ी को अपनी सलाह मानने के लिए बाध्य नहीं करता।

मैं अपने मन की बात कह रहा हूं मीडिया से निवेदन है कि बेवजह इस मामले को तुल नहीं देना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *