उम्र यदि चालीस के पार है तो इन समस्याओं को न करें नजरअंदाज। वरना भारी पड़ सकता है

यह कहावत आज कि नहीं बल्कि सदियों पुरानी है कि स्वास्थ से बड़ा कोई धन नहीं हो सकता। यह कहावत हमें बार-बार यह याद दिलाती है कि स्वास्थ हमारे लिए कितनी जरूरी है।

इसीलिए लोगों को आर्थिक रूप से सजग होने के साथ-साथ अपने स्वास्थ्य के प्रति है विशेष संवेदनशील होना चाहिए।

ज्यों-ज्यों हमारी उम्र बढ़ती है त्यों-त्यों हमारे शरीर में चोट सहन करने की क्षमता इसके साथ ही दर्द सहने की क्षमता भी घटने लगती है।

कुल मिलाकर उम्र के साथ-साथ हमें अपने शरीर के लक्षणों से ही आभास हो जाता है कि शरीर अब ढलने लगा है। बढ़ती उम्र को तो नहीं रोका जा सकता

लेकिन यदि हम इन संकेतों को पहचानने और उसके बाद कुछ बातें ठीक कर लें तो इस तरह की समस्याओं को बाय-बाय कहा जा सकता है।

जब तक हमारी उम्र 30 तक होती है तब तक तो हमारे शरीर में कोई समस्या नहीं होती।

लेकिन जब जब हम 40 के पार होने लगते हैं। हमारे शरीर में कई तरह के परिवर्तन होने शुरू हो जाते हैं।

तो आइए जानते हैं हमारे शरीर में 40 के पार किस तरह के परिवर्तन देखने को मिलते हैं।

नींद की समस्या

सामान्यताः एक स्वस्थ मनुष्य के लिए 7 से 8 घंटे की नींद बेहद आवश्यक है।

लेकिन जब उम्र 40 से पार होती है तो कम नींद की समस्या आम है। इसके कारण ओवर रिएक्ट ब्लैडर, हाई ब्लड प्रेशर हैं।

यदि आपको यह समस्या लगातार बनी हुई है तब आपको चाहिए कि अच्छे डॉक्टर से इस बारे में सलाह लें।

ज्यादा पेशाब आना

यदि किसी व्यक्ति की उम्र 40 बार है और उसे बार-बार पेशाब जाने का मन करता है।

तब हो सकता है कि यह किसी बड़ी बीमारी का संकेत हो। इसीलिए इस बीमारी को अन्यथा ना लेते हुए शीघ्र ही किसी अच्छे डॉक्टर से संपर्क करें।

सिर दर्द लगातार होना

सिर दर्द होना आम बात है। लेकिन यदि किसी व्यक्ति की उम्र 40 के पार है। उसके सर में बार-बार सिर दर्द होता है। तब यह कोई साधारण बात नहीं रह जाती।

इस समस्या से पीड़ित व्यक्ति को यह सलाह दी जाती है कि वे अपने डॉक्टर से शीघ्र संपर्क करें।

होता यह है कि जब हमारा शरीर 40 के पार होता है तो उसमें बहुत बड़े पैमाने पर बदलाव शुरू हो जाते हैं।

इसीलिए डॉक्टर सलाह देते हैं कि इस समस्या को नजरअंदाज न किया जाए।

जोड़ों में दर्द होना

जब किसी व्यक्ति की उम्र 40 के पार हो जाती है और जोड़ों में दर्द होने लगता है।

तब यह इस बात की ओर इशारा करता है कि अब उसकी हड्डियों में वो बात नहीं रही। शरीर की हड्डियां समय के साथ साथ कमजोर होती जा रही है।

यह हड्डियां जल्दी खराब ना हो इसके लिए आपको सलाह दी जाती है कि डॉक्टर से सीधे संपर्क करें।

तेजी से वजन का घटना या बढ़ना

यदि किसी व्यक्ति की उम्र 40 के पार है और वह अपने वजन में अंतर महसूस करता है।

जैसे यदि उसका वजन अचानक से घट जाए या बढ़ जाए तो उसे तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

विशेषज्ञ बताते हैं कि एक उम्र के बाद डायबिटीज का कोलेस्ट्रॉल और वजन बढ़ने के कारण या घटने के कारण इस तरह की समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं।

आपको सलाह दी जाती है कि 40 के पास आते ही अपना कोलेस्ट्रोल और ब्लड शुगर लेवल नियमित तौर पर टेस्ट कराएं।

सीने मे जलन

पाचन में होने वाली समस्याओं के कारण सीने में जलन हो सकती है। यदि यह समस्या एकाध बार हो तब तो कोई बात नहीं लेकिन इस समस्या बार-बार हो तो यह चिंता का विषय है।

यह समस्या हार्ड बर्न जैसी समस्या से संबंधित भी हो सकते हैं। इसीलिए इस समस्या को अनदेखा न किया जाए।

रीढ़ की हड्डी में दर्द

हमारे साथ कई बार पीठ के निचले हिस्से में दर्द होता है इसे समझना आसान नहीं होता।

लेकिन यदि यही समस्या लगातार बनी रहती है तब आपको यह सलाह दी जाती है कि बिना देर किए आपको किसी डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। नहीं तो बड़ा खतरा हो सकता है।

पेशाब या मल में खून का आना

मल या पेशाब में खून आना कोई साधारण बात नहीं है। यह भविष्य में किसी बड़ी बीमारी आने का संकेत है।

इस तरह के लक्षणों को गंभीरता से लिया जाना चाहिए।

डॉक्टर सलाह देते हैं कि आपको साल में एक बार अपने शरीर का चेकअप जरूर कराना चाहिए।

जब आपकी उम्र 40 के पार हो जाए तब तो ऐसा जरूर करना चाहिए।

आपको सलाह दी जाती है कि बढ़ती उम्र के साथ है आप एक हेल्थ चेकअप मे हेल्थ पैकेज ले लेना चाहिए जिसमें कोलेस्ट्रॉल ब्लड प्रेशर डायबिटीज हार्ट डिजीज प्रोस्टेट हेल्थ की जांच की जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *