चीयरलीडर्स के कारण अफगानिस्तान ने लगाया आईपीएल पर प्रतिबंध

पहले से आशंका थी कि अफगानिस्तान की नई व्यवस्था बेहद कठोर और अजीव सी होगी।

उम्मीद के मुताबिक अफगानिस्तान ठीक वैसा ही कार्य कर रहा है। वहां पर महिलाओं पर बहुत सारे कठोर कानून लागू कर दिए गए हैं।

अफगानिस्तान की जनता अभी उस माहौल से उबर भी नहीं पाई है कि वहां के लोगों को यहां की नई सरकार ने एक नया दर्द दे दिया है।

यहां की सरकार ने भारत में आयोजित की जाने वाले आईपीएल पर प्रतिबंध लगा दिया है। प्रतिबंध लगाने की वजह यह हास्यास्पद है।

तालिबान की नई सरकार ने अपने देश की मीडिया को आईपीएल का प्रसारण ना करने की आदेश दिया है।

उसके पीछे उनका तर्क यह है कि आईपीएल में लड़कियां छोटे-छोटे कपड़े पहन कर नाचती हैं।

वे जब मैच देखने जाती हैं तो दोनों महिला और पुरुष दोनों ही साथ बैठते हैं।

इस्लाम में महिला-पुरुषों का एक साथ बैठना हराम है तथा नंगी-नंगी लड़कियों को नाचते हुए देखकर अफगानिस्तान की महिलाओं पर भी इसका बुरा प्रभाव पड़ सकता है। वहां की लड़कियां भी इस तरह की हरकतें कर सकती हैं।

इसीलिए अफगानिस्तान की सरकार ने आईपीएल पर प्रतिबंध लगा दिया है।

उनकी सरकार ने तो प्रतिबंध लगा दिया है लेकिन अफगानिस्तान के आईपीएल के दीवानों के लिए यह खबर निराश कर देने वाली है।

आईपीएल में अफगानिस्तान के राशिद खान,मोहम्मद नबीउर रहमान आईपीएल में खेलते हैं। यह तीनों ही खिलाड़ी सनराइजर्स हैदराबाद की तरफ से खेलते हैं।

आईपीएल पर प्रतिबंध लगाने से पहले अफगानिस्तान ने महिला खिलाड़ियों के खेलने पर भी प्रतिबंध लगा दिया है।

अफगानिस्तान की सरकार का इसके पीछे तर्क है कि खेलों के दौरान महिलाओं का अंग प्रदर्शन होता है।

दर्शक महिलाओं के खेल पर कम बल्कि अपने अंग प्रदर्शन पर ज्यादा ध्यान देते हैं। महिलाओं का इस तरह अंग प्रदर्शन करना शरिया के खिलाफ है।

अपनी नई सरकार के गठन के दौरान अफगानिस्तान ने कहा था कि अफगानिस्तान की कोई महिला किसी भी खेल का हिस्सा नहीं हो सकती।

ऐसा करके भी केवल अपने शरीर का प्रदर्शन ही करती हैं।

अपने देश की जनता के लिए अफगानिस्तान की नई सरकार ने इसका आदेश जारी किया था। अफगानिस्तान के सांस्कृतिक आयोग के उप प्रमुख अब्दुल्ला बशीर ने इस संबंध में एक बयान जारी किया था।

जिसके बाद से विश्व स्तर पर जो मामला काफी गर्माया था। और अफगानिस्तान की सभी देशों ने कड़ी आलोचना भी की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *