कागज कप बनाकर बेचें और कमाएं लाखों रुपया महीना

बेरोजगारी के इस दौर में नौकरी मिलना आसान नहीं है। अगर नौकरी मिल भी जाती है तो उसकी सैलरी इतनी कम होती है कि महीने का खर्चा चला पाना बहुत कठिन होता है।

ऐसे में अगर देखा जाए तो लोगों के सामने अपना व्यापार ही एक मात्र विकल्प होता है।

लोग सोचते हैं कि व्यापार करने के लिए बहुत ज्यादा रकम की आवश्यकता होती है लेकिन

यदि हम छोटे-छोटे कामों पर अपना ध्यान लगाएं तो अच्छा खासा मुनाफा हो सकता है।

आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको पेपर कप के कारोबार के विषय में बताएंगे।

देश में इस समय प्लास्टिक प्रदूषण तेजी से बढ़ रहा है। सरकार ने प्लास्टिक के उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया है

इसीलिए पेपर कप का बिजनेस बहुत तेजी से बढ़ रहा है क्योंकि इससे पहले चाय पानी प्लास्टिक के कपों में दी जाती थी वो अब धीरे धीरे कागज के कपों में दी जा रही है।

इस व्यापार की सबसे अच्छी बात तो यह है कि भारत सरकार भी मुद्रा योजना की सहायता से व्यापार करने वाले लोगों की सहायता कर रही है।

एक और अच्छी बात तो यह भी है कि सरकार ने इस व्यापार का पूरा प्रोजेक्ट लिखा है।

जिसमें आय-व्यय का और उसके मुनाफे का पूरा विवरण दिया रखा है। आइए जानते हैं कि इस व्यापार को कैसे कर सकते हैं ?

मशीनें कहां से खरीदें

कागज की कप बनाने की मशीन यदि आपको चाहिए तो आपको दिल्ली, आगरा ,अहमदाबाद या हैदराबाद जो भी शहर आपको नजदीक पड़े वहां से खरीद सकते हैं।

यदि आप चाहें तो ऑनलाइन सर्च भी कर सकते हैं। इन मशीनों को इंजीनियरिंग वर्क्स के द्वारा तैयार किया जाता है।

क्या- 2 खर्च होगा

कागज के कप बनाने वाली मशीनों को स्थापित करने के लिए आपको करीब 500 वर्ग फीट एरिया की आवश्यकता होगी।

जिसमें मशीनरी, डाई इलेक्ट्रिफिकेशन, इंस्टॉलेशन, इक्विपमेंट फीस, फर्नीचर आदि सभी खर्चों को मिलाकर करीब 11 लाख रुपए खर्च करना होगा।

इस सबके अलावा अपनी वर्कर्स के लिए भी आपको हर महीने ₹ 35 हजार खर्च करने पड़ेंगे।

कई राॅ मटेरियल कि यदि हम लगाएं तो ₹   4 लाख यूटिलिटीज पर महीने का करीब ₹6000 खर्च आएगा। इन सबके अलावा छोटे मोटे खर्चे और जोड़ लिए जाएं तो ₹   21000 और खर्च हो जाएगा।

मुनाफा

खर्चे की बात के बाद हम बात करेंगे इस बिजनेस के मुनाफे की। हम साल में यदि 300 दिन भी इस पर काम करते हैं तो

आपकी एक 300 दिन में करीब 2.2 करोड़ यूनिट कप पेपर बना सकते हैं। आप इसको कम से कम 30 पैसा प्रति कप के हिसाब से बेच सकते हैं।

30 पैसा प्रति कप को हम 2.2 करोड़ से गुणा करें तो करीब 66 लाख रुपया होता है।

इसको आप अपने खर्चे से माइनस कर दीजिए। आप देख लीजिए कि आपको कितना मुनाफा हर महीने हो सकता है।

सरकार भी सहायता करेगी

आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देने के उद्देश्य से सरकार ने मुद्रा योजना शुरू की है। सरकार इसके तहत ब्याज पर 25% सब्सिडी देती है।

इस प्रयोग के तहत आपको केवल 25 % पैसा ही निवेश करना है बचा 75 % सरकार अपनी तरफ से निवेश करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *