सिलेंडर हो या ट्रक कंटेनर ये गोल ही क्यों होते हैं ?

सिलेंडर चाहे किसी भी प्रकार का हो आपने गोल ही देखे होंगे। जिसमें एलपीजी सिलेंडर हो या

ऑक्सीजन सिलेंडर हो या फिर किसी अन्य प्रकार का सिलेंडर हो यह सब गोल ही होते हैं।

आपने कभी इस बात पर विचार किया है कि सिलेंडर गोल ही क्यों होते हैं चौकोर क्यों नहीं ?

अगर आप जानते हैं तब तो कोई बात नहीं और यदि नहीं जानते हैं तो आइए जानते हैं इसके पीछे का लॉजिक क्या है ?

इस बात की शुरुआत होती है दवाब से। आप चाहे जितने भी सहनशील हों लेकिन एक सीमा से ज्यादा कोई भी दबाव बर्दाश्त नहीं कर सकते। यही सब होता है सिलेंडर के साथ।

होता यह है कि गैस या लिक्विड एक कंटेनर में कंटेन करके रखा जाता है। यह लिक्विड या गैस अपने कोनों पर ही सबसे ज्यादा दबाव डालती है।

यदि कंटेनर गोल होने के स्थान पर चौकोर होगा तो उसका सारा दबाव चारों कोनों पर ही होने लगेगा। अत्यधिक दबाव के कारण सिलेंडर फटने की संभावनाएं बनी रहती हैं।

वहीं गोल सिलेंडर के साथ यह सुरक्षा है कि कोई निश्चित को ना ना होने के कारण पूरे सिलेंडर पर दबाव एक जैसा ही पड़ता है।

यही एकमात्र कारण है कि सिलेंडर चाहे जिस चीज का भी हो आपको बेलनाकार या गोलाकार हक मिलेगा चौकोर नहीं।

हर जगह लागू होता है यह नियम

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सिलेंडर के संबंधित दुनिया के हर कोने में लागू होता है।

सिलेंडर के स्थान पर यदि हम टैंकर भी ले लें तो भी चौकोर होने के स्थान पर गोल ही होते हैं।

गैस या लिक्विड के गोल टैंकर को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाने में आसानी होगी।

यदि उनका ट्रक कंटेनर गोल होगा जब आप गोलाकार ट्रक या कंटेनर में सफर करते हैं। तब सेंटर आफ ग्रेविटी कम हो जाता है।

और ऐसी स्थिति में वाहन स्थिर रहता है और दुर्घटना होने की संभावनाएं घट जाती हैं।

लिक्विड गोल कंटेनर में रखने का नियम दुनिया के हर कोने में लागू होता है। आपने यदि देखा हो तो पानी के कुएं भी गोल ही होते हैं।

अगर कोई कुआं किसी ने चौकोर बना दिया तो वह ज्यादा दबाव के कारण फट सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *