जब लक्ष्मी अग्रवाल पर हुआ था एसिड अटैक

दीपिका पादुकोण की छपाक तो आपने देखी ही होगी। उसमें दीपिका पादुकोण ने एसिड अटैक से पीड़ित लड़की का किरदार निभाया है।

उस फिल्म को देखकर आपने जो महसूस किया उसको आप उसे उस लड़की पर लागू करके देखिए जिसने वह सबकुछ झेला। जी हां ! हम बात कर रहे हैं लक्ष्मी अग्रवाल की।

एक महिला जिन्होंने अपने जीवन के उन दिनों में यह सबकुछ झेला था जब कोई लड़की अपने आने वाली जीवन को लेकर हसीन सपने देखती है।

भारतीय सिनेमा को भारतीय समाज के आईने के रूप में देखा जाता है।

यहां पर कई फिल्में सामाजिक ताने-बाने पर आधारित होते हैं।

इसी कड़ी में दीपिका पादुकोण ने छपाक नाम की फिल्में एक्टिंग की।

छपाक फिल्म में एसिड अटैक से पीड़ित लक्ष्मी अग्रवाल के जीवन के बारे में काफी विस्तार से बताया गया है।

इस फिल्म में लक्ष्मी अग्रवाल को एक प्रेरणा के रूप में दिखाया है।

हमने इस फिल्म में देखा है कि लक्ष्मी अग्रवाल की उम्र जब सिर्फ 15 वर्ष की थी तब उन पर एसिड अटैक किया गया था।

वह अटैक उनके जीवन भर के लिए उनके साथ रह गया।

बताया जाता है कि एक मनचले आशिक उनसे एक तरफा प्रेम करता था लेकिन लक्ष्मी अग्रवाल उससे बात करने में जरा भी इंटरेस्टेड नहीं थीं।

वह कई बार उन्हें मनाता रहा लेकिन उन्होंने उसमें दिलचस्पी नहीं दिखाई।

उनकी इस बेरुखी से चिढ़कर इस सिरफिरे ने उनके ऊपर एसिड अटैक कर दिया इस फिल्म में इसके बाद की कहानी दिखाई गई है।

लक्ष्मी अग्रवाल का जन्म 1 जून 1990 को दिल्ली में हुआ था।

लक्ष्मी अगरवाल एक बेहद साधारण परिवार से संबंध रखते हैं।

लक्ष्मी अग्रवाल अपनी पढ़ाई में बहुत ज्यादा तेज थी।

घर की आर्थिक स्थिति बहुत ज्यादा कमजोर थी क्योंकि लक्ष्मी के पिता और भाई बीमारी की वजह से पहले ही यह दुनिया छोड़ कर जा चुके थे।

लक्ष्मी अपना पेट पालने के लिए अपनी मां के साथ घर-घर जाकर काम किया करती थीं।

एसिड अटैक के बाद लक्ष्मी अग्रवाल का जीवन बेहद कठिन हो गया था।

उन्हें बेहद कठिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ा था।

लेकिन इस सबके बावजूद भी उन्होंने हार नहीं मानी और उस दरिंदे के खिलाफ लड़ती रहीं।

लक्ष्मी अग्रवाल अपने जीवन की परिस्थितियों से जूझ ही रही थीं कि उनकी मुलाकात एक एनजीओ चलाने वाले आलोक दीक्षित से हुई थी।

इस एनजीओ में एसिड अटैक से पीड़ित महिलाओं के लिए काम दिया जाता था।

आलोक दीक्षित और लक्ष्मी अग्रवाल में दोस्ती हो गई दोस्ती प्यार में बदल गई और प्यार शादी में।

शादी के बाद इन दोनों को एक बेटी का माता-पिता होने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। इस बेटी का नाम इन्होंने पीहू रखा था।

लेकिन लक्ष्मी अग्रवाल के जीवन की दुश्वारियां यहां भी कम नहीं हुईं। लक्ष्मी अग्रवाल की शादी बहुत ज्यादा लंबी नहीं चल सकी।

बेटी के जन्म के कुछ समय बाद ही इन दोनों के बीच तलाक हो गया।

लक्ष्मी अग्रवाल ने अपनी इन परिस्थितियों का भी डटकर मुकाबला किया और वह आज एसिड अटैक के खिलाफ एक अभियान चला रही हैं।

सोशल मीडिया पर भी लक्ष्मी अग्रवाल सोशल मीडिया पर भी बेहद एक्टिव रहती हैं। उनके सोशल मीडिया पर करीब 515K फाॅलोअर्स हैं।

0 thoughts on “जब लक्ष्मी अग्रवाल पर हुआ था एसिड अटैक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *